national anthem of india in hindi ~ Gov Job Portal

national anthem of india in hindi

     National anthem सुन कर हर व्यक्ति के मन में देश के लिए सम्मान व उल्लास जग जाता है। आम जनता दरपूर्वक खड़ी ही जाती है और सैनिक सलामी देते है। मन में गर्व होता है कि वह एक स्वतंत्र देश के रहने वाले है और उसका अपना  national anthem है, नही तो पराधीन देश के लोगों को शासक देश का  national anthem गाना पड़ता है।



 jana gana mana
national anthem of india



    भारत का national anthem  जन – गण - मन ” ( jana gana mana ) है। इसे भारत के प्रसिद्ध साहित्यकारकवि रवीन्द्रनाथ टैगोर ने लिखा था। वह भारत के प्रथम नोबेल पुरस्कार विजेता थे। यह गीत 27 दिसम्बर 1911 को पहली बार  भारतीय कांग्रेस के कोलकाता अधिवेसन में गाया गया था। जिसकी अध्यक्षता पं. विशन नारायण धरकांग्रेस नेताओं भूपेन्द्र नाथ बोसअम्बिका चरण मजूमदार की मौजूदगी में गुरुदेव जी की भतीजी सरला देवी चौधरानी ने इसका सर्वप्रथम गायन किया था।

    सन् 1912 में तत्तवबोधिनी पत्रिका के अंक में भारत विधाता शीर्षक से यह गीत पहली बार प्रकाशित हुआ। गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर ने इस गीत का अनुवाद द मार्निंग सांग ऑफ इंडिया के नाम से अंग्रेजी में अनुवाद किया। मद्रास की मदनपाल्ले कालेज की पत्रिका में यह प्रकाशित हुआ था।

क्या आप जनते हैं...  सन् 1913 में गीतांजलि उपन्यास के लिए रवीन्द्रनाथ टैगोर को साहित्य का नोबल पुरस्कार प्रदान किया गया था। जो भारत के प्रथम भारतीय पुरस्कार विजेता बने।
 
read more Hisoty of Indian Flag

आजाद हिंद फौज के नेता सुभाषचन्द्र बोस ने इसके हिंदी अनुवाद को आजाद हिंद फौज के national anthem के रूप में अपनाया। इतने वर्षों पहले ही उन्होंने यह कहा था कि टैगोर का गीत हमारा  national anthem बन गया है।

संविधान सभा ने बारहवें तथा अंतिम सत्र के अंतिम दिन 24 जनवरी, 1950 को सभा के अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने जन गण मन को भारत को गणतंत्र के national anthem के रूप में स्वीकार किया इस गीत में पांच बंध हैं। परंतु इसके पहले बंध को राष्ट्रीय गान के रूप में हर जगह गाया जाता है। जो इस प्रकार है...


जन-गण-मन अधिनायक, जय हे
भारत-भाग्य-विधाता
पंजाब-सिन्ध-गुजरात-मराठा
द्रविड़-उत्कल-बंग
विन्ध्य-हिमाचल-यमुना-गंगा
उच्छल-जनधि-तरंग
तब शुभ नामे जागे, तब शुभ आशिष मांगे,
गाहे तव जय गाथा,
जन-गण मंगलदायक जय हे भारत-भाग्यविधाता,
जय हे, जय हे, जय हे, जय जय जय जय हे।


meaning of national anthem in hindi –  तुम सबके मन के राजा हो। तुम भारत के भाग्यविधाता हो। तुम्हारी महिमा पंजाब, सिंध, गुजरात, महाराष्ट्र, द्रविड़, उड़ीसा, बंगाल, विंध्याचल और हिमाचल की पर्वत श्रृंखलाओं तक व्याप्त है। तुम्हारा मधुर संगीत गंगा-यमुना नदियों में गूंज रहा है। सागर की लहरें गुम्हा गुणगान करती है। ये लहरें तुम्हारा आशीर्वाद पाने की प्रार्थना करती है। सबका कल्याण तुम पर निर्भर है। तुम भारत के भाग्य विधाता हो। तुम्हारी विजय हो, विजय हो, विजय हो। 


     national anthem के बजने में लगभग 52 सैकड़ं का समय लगता है। कभी – कभी किन्हीं अवसरों पर इसकी पहली और आखिरी लाइनें ही बजाई जाती है, जो 20 सैकेंड में पूरी हो जाती है। भारत के प्रत्येक नागरिक का यह कर्तव्य है कि national anthem का सम्मान करे। national anthem के बजने पर सीधा खड़ा हो जाए।
Previous
Next Post »

1 comments:

Click here for comments
vinay yadav
admin
21 September 2018 at 15:10 ×

You are doing a great job.
Thanks

Congrats bro vinay yadav you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar

Thanks, for visiting Blog. ConversionConversion EmoticonEmoticon